अन्तर्राष्ट्रिय महिला दिवस मे एक नव रचना || खुशबु मैथिल

शेयर गर्नुहोला

जब माई-बाबू के बेटी दुलारी छि हम
त अँही कहु कोना क बेचारी छि हम

भैयाक’ रक्षाकवच “राखी” हमरे हाथ
श्रीकृष्णक हाथ स’ बढैत सारी छि हम

शारदा दुर्गा माता लक्ष्मी काली सीता
कतौ द्रौपदी त कतौ गान्धारी छि हम

अयोध्या लेल किएक नै खराब भेली
मुदा मिथिलाक बेटी संस्कारी छि हम

बढैली गिरली उठली फेर स’ चलली
तेँ न आई कर्मचारी सरकारी छि हम

-खुश्बु मैथिली

अन्तर्राष्ट्रिय महिला दिवस
बहुत बहुत शुभकामना आ सफलता क कामना

पछाडि पोस्टनारी दिवस : प्रदेश २ सरकारले बाँडे १५ सय २० छात्रालाई साइकल
अगाडि पोस्टअन्तर्राष्ट्रिय महिला दिवसमा संयुक्त र्याली र विचार आदानप्रदान